Unveiling Ceremony of 48 Bhaktamar Infinity Energy

Official Book Launch at Bawangaja M.P.

अमरत्त्व की पहेली से लेकर आनंदमयी जीवन और आध्यात्मिकता तक मानवता में वाकै में पूर्ण परिवर्तन आया है. हम बदलाव के महत्त्वपूर्ण चौराहे पर खडे हैं, और समुची मानवता को अंधेरे से उजाले की ओर ले जाने के लिए परिपक्व बनाने के लिए हमारे पास समय भी नही है. पश्चिम में वैज्ञानिकों ने मानव की चेतना पर बहुत सारा संशोधन किया है, उसी के साथ अब वह समय आ गया है की हमारे ऋषि, मुनी, तीर्थंकर तथा साक्षात्कारी गुरुओंने हमें पवित्र हस्तलेखों के रूप में जो वैभवशाली विरासत दी है उसकी तरफ हमे रूख करना चाहिए.

भक्तामर स्तोत्र के अद्वितीय उपचारों के परिणामों के बारे में जब मुझे पता चला तब मुझे यह एहसास हुआ की मै ज्ञान के लिए केवल पश्चिम की ओरही देख रहा था. जब मै इस प्राचीन जैन संस्कृत स्तवन के संशोधन में डूब गया तब मुझे पता चला की अगर इस पवित्र ज्यामिती या यंत्रों के ज्ञान को एकत्रित रूप में इस्तेमाल करने में कितनी प्रचंड शक्ती है. भक्तामर चिकित्सा उपचार अनेकों सालों से किए जा रहे है. बहुत सारे लोग इस विषय का अध्ययन भी कर रहे हैं, इन सभी ने अभीतक ध्वनि इस आयाम को लेकरही भक्तामर उपचारों का संशोधन किया है. आर्किटेक्ट मयंकने इस किताब में अपने संशोधन के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया है कि ध्वनि के साथसाथ ज्यामिती जो कंपनों से जुडा हुआ दृष्यरूप साधन (vibrational visual tool) है, उसका भी भक्तामर उपचारों के संशोधन के लिए इस्तेमाल करना चाहिए. हमारे सिद्धांतो में यह बताया गया है कि मंत्रों के साथ यंत्रों का भी बडा महत्त्व होता है. इसलिए इस किताब में यंत्र, मंत्र और तंत्र इन तीनो साधनों का संयोग भक्तामर उपचारों के बारे में कैसे किया जा सकता है यह बताया गया है.

48 भक्तामर अनन्तता ऊर्जा कार्डों में हर श्लोक के चेतना पर होनेवाले परिणामों के साथ शरीर पर होनेवाले परिणामों को भी नए सिरे से रखा गया है. इन कार्डों में उपयोग किए गए अन्य शक्तिशाली आयाम एवं कब्बालाह विज्ञान के परिणामों से इनके जरिए होनेवाली हीलिंग की शक्ती में अनेक गुना वृद्धि हुई है.

मुझे आशा है की शारीरिक, मानसिक एवं आधात्मिक कल्याण की ओर जाने का समग्र मार्ग निर्माण करने का मेरा यह प्रयास मेरे सहजीवों को मेरे उद्देश्य की तरफ ले जाएगा.

48 Infinity Bhaktamar Energy book Unveiling by Muni Shri Praman Sagarji Maharaj

Official Book Launch Video at Bawangaja M.P.

From the quest of immortality to the quest for fuller living and spirituality, humanity has, indeed, taken an about-turn. We stand at a major crossroad of change, and never has the time been so ripe for lifting the collective humanity from darkness into light. With huge research being done by scientists in the West on human con- consciousness, it is also time, we turn to the legacies bestowed upon us by of our rishis, munis, Tirthankaras and enlightened masters in the form of sacred texts. When I came across the extraordinary healing effects of the Bhaktamar Stotra, I realised I had been looking only to the West for knowledge. As I delved into searching this ancient Jain Sanskrit panegyric, I realised the phenomenal potential it held, if combined with the knowledge of sacred geometry or yantra. Until now, the 48 stotras have proven to heal and effect with sound alone, and my aim is to double the impact with a visual energy connect and create a multidimensional energetic healing technique.The effects of each verse on the consciousness and the physical realm has been reintroduced in 48 Bhaktamar Infinity Energy cards along with other powerful dimensions and the influence of Kabbalah sciences to multiply the potency of healing. I hope my attempt to create a wholistic path towards physical, mental and spiritual well being will serve my fellow beings in the way I intend it to.

48 Bhaktamar Infinity Energy (English)

48 भक्तामर अनंत ऊर्जा (हिंदी)

Sound

The human body restores the vibrational energy generated with the transfer of sound waves. This type of energy transfer encompasses waves and frequencies that produce resonance.

Geometry

Each geometric design is a pattern of energy/force that can be heard in the mantra (sound-syllable) and each encloses its own unique power-pattern.

Energy

The dynamic movement of energies between Mantra and Yantra are hence described as Tantra.

Stay connected with us

× How can I help you?